WhatsApp Image 2020-04-26 at 18.01.40

3 March 2021

02:27 PM: MoU between India and France

01:44 PM: Swiss Open 2021

01:31 PM: Indo-Norway Integrated Ocean Initiative

01:21 PM: Ram Nath Kovind receives the COVID-19 vaccine

12:38 PM: optical spectrograph

11:58 AM: COVID-19 : 97.6% स्वस्थ

10:11 AM :World Wildlife Day

09:57 AM: World Wildlife Day article

09:49 AM: Indian Army held a meeting with Ex-servicemen of Bhala in Doda

09:35 AM: नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ ओपन स्कूलिंग

09:19 AM: Hockey article

2 March 2021

4:55 PM :COVID-19 vaccine was administered to Defence Minister Rajnath Singh

4:30 PM : Vande Bharat Mission

2:41 PM : Ravi Shastri received his first dose of the Covid-19 vaccine

2:31 PM : R.S. Prasad receives the first dose of the COVID19 vaccine

1:49 PM : Sansad Tv

12:58 PM : maritime summit

12:50 PM : free NEET coaching in Srinagar

12:36 PM : Sagar Manthan

11:46 AM : maritime summit

10:47 AM : M P Singh met with the Finance Minister of Mongolia

09:34 AM : M P Singh met with the Finance Minister of Mongolia

08:56 AM : Vaccine Maitri

08:48 AM : IAF to take part in multinational exercise Desert Flag with France, US in UAE

08:35 AM : 80,000 healthcare workers get vaccine

1 March 2021

02:20 PM : Venkaiah Naidu gets vaccinated

01:18 PM : Odisha CM gets vaccinated

01:18 PM : Free vaccination in Bihar

01:16 PM : INS Karanj

01:11 PM : Khelo India inauguration

12:08 PM : environment-friendly road

11:25 AM : Kisan rail

10:25 AM : Sensex

09:54 AM : PM Modi gets vaccinated

08:50 AM : PM Modi gets first dose

27 February 2021

12: 26 PM : PSLVC51/Amazonia-1 mission

12: 14 PM : Covid-19 Vaccine update

9:59 AM : Attukal Pongala

9:38 AM :1971 Bangladesh Liberation War

9:34 AM : Guru Ravidas birth anniversary

9:30 AM : Magh Purnima

9:13 AM : गुरु रविदास जयंती

9:03 AM : COVAX to Ivory Coast

26 February 2021

03:05 PM : RBI Governor Shaktikanta Das

02:44 PM : appointment of Ligia Noronha of Indian origin as Assistant Secretary-General and Head of the New York Office of the United Nations

02:28PM : Dr S Jaishankar and UAE Minister of Foreign Affairs meet

10:58 AM: COVID-19

9:34 AM: resumption of academic activities in Bihar

9:14 AM: Covid-19 Vaccine Update

08:24 AM: India Toy Fair 2021

08:20 AM: Khelo India Winter Games

25 February 2021

02:05 PM: 6 New Advance Life Support System Ambulances from IGMC, Shimla

01:57 PM:MoU for ease in doing business

01:26 PM: National Conference on Deep Sea Bio resources

01:11 PM: Launch rehearsal of PSLVC51

01:05 PM: Covid-19 vaccination report

12:14 PM: Puducherry development projects

10:06 AM: Covid-19 recovery stats

09:55 AM: National Mission on Pilgrimage Rejuvenation & Spirituality Augmentation Drive

09:53 AM: Bihar Vaccination dry run

09:44 AM: Narendra Modi Cricket Stadium

09:41 AM: Sensex

24 February 2021

01: 50 PM: Narendra Modi Cricket Stadium

11:57 AM: Covid-19 vaccine

11:54 AM: Covid-19 vaccine in India

11:46 AM: Rajasthan Budget

09:26 AM: Sensex

09:22 AM: UPSC new exam centre

09:10 AM: World's largest Cricket stadium

23 February 2021

05:55 PM: देश में अब तक कोरोना वैक्सीन की 1,17,00,000 से ज्यादा डोज दी जा चुकी हैं

05:23 PM: The world's biggest cricket stadium

05:12 PM: प्रधानमंत्री आवास योजना- शहरी

04:45 PM: Kushinagar Airport gets necessary clearances from DGCA

04:29 PM: ITBP jawans with SDRF

03:54 PM: Mongolian Prime Minister & Health Minister

02:28 PM: Bangladesh receives 2 million doses

02:08 PM: Intensified Mission Indradhanush

11:44 AM: COVID-19 : 97.22% स्वस्थ

09:43 AM: Bihar government's provisions for girl student

09:30 AM: India Toy Fair 2021

09:30 AM: National Toy Fair 2021

22 February 2021

01:40 PM: Atmanirbhar Krishak Samanvit Vikas Yojna

12:55 PM:Covid-19 recovery

12:38 PM: Unnata Axom

8:47 AM : paperless budget

7:59 AM : 7,057 people return to India

7:39 AM: Khelo India University Games

20 February 2021

4:12 PM : असम में कई अहम तेल और गैस परियोजनाएं

11:08 AM : Agricultural Exports

09:49 AM : 'Pediatric Rare Genetic Disorders Laboratory'

09:16 AM : मिजोरम

19 February 2021

04:34 PM : Indian boxers assure 12 medals at Adriatic Pearl in Montenegro.

03:43 PM: Health Minister has launched Intensified Mission Indradhanush 3.0

03:19 PM : Launch the BRICS2021 website.

03:06 PM : Helina (Army Version) and Dhruvastra (Air Force Version) Missile Systems designed and developed by @DRDO_India

02:31 PM : रक्षामंत्री राजनाथ सिंह 21 फरवरी को करेंगे 26वें हुनर हाट का उद्धाटन

01:00 PM : Get the latest update on job vacancies

12:43 PM :Corps commander level talks to be held between India and China

12:21 AM : India has successfully vaccinated nearly 1 crore

11:42 AM : I greet the countrymen on the occasion of Shivaji Jayanti today: PM

11:07 AM: COVID-19 : 97.30% स्वस्थ

10:42 AM: वैक्सीन लगवाना जरूरी है?

9:51 AM: डिजिटल हेल्थ आईडी

9:31 AM: UP- COVID-19 tests

8:41 AM: Chhatrapati Shivaji Maharaj Jayanti

7:58 AM: India and Nepal sign MoU

18 February 2021

1:42 PM: Mahabahu-Brahmaputra program

1:36 PM: Mahabahu-Brahmaputra bridge

12:20 PM: WCCBHQ bags Asia Environmental Enforcement award

12:19 PM: Assam CM offers Bhumi Pujan at Majuli

12:11 PM: Lieutenant Governor of Puducherry

11: 32 AM: 'Pariksha Pe Charcha'

09:58 AM: water recycling plant

09:06 AM: 30th Adriatic Pearl Boxing Championship

17 February 2021

04:30 PM: शार्दुल ठाकुर की जगह उमेश यादव भारतीय टीम में शामिल

04:22 PM: एलसीए तेजस और अर्जुन टैंक के बाद अब डीआरडीओ ने यूएवी मिशन रुस्तम-2 पर अपना ध्यान केंद्रित किया है

03:41 PM: जुवेनाइल जस्टिस केयर एंड प्रोटेक्शन ऑफ़ चिल्ड्रेन एक्ट 2015

03:42 PM: डिस्ट्रिक्ट मजिस्ट्रेट के अंतर्गत कुछ विशेष प्रावधान निर्धारित किये जायेंगे:

03:39 PM: पीएलआई (परफॉरमेंस-लिंक्ड इंसेंटिव)

03:11 PM: 3.5 Crore rural households provided tap water connections

02:54 PM: Ministry of Earth Sciences (MoES) has rolled out the Draft Blue Economy policy

02:38 PM: CM Naveen Patnaik laid the foundation stone of India's largest hockey stadium

01:47PM: Argentina set to receive 5,80,000 doses

01:47PM: A 20-member delegation of foreign diplomats begins 2-day visit to Srinagar, Jammu & Kashmir

01:47 PM Foreign envoys

01:04 PM: Working towards minimum government and maximum governance

01:01 PM: society is now transforming into a cashless economy

12:53 AM: PM Modi Address

11:21 AM: COVID-19 Recovery rate

9:48 AM: COVID-19 VACCINE

9:02 AM: India-Russia Special & Privileged Strategic Partnership

9:00 AM: सैनिकों और स्थानीय कमांडरों से मुलाकात

8:55 AM: Implementation of Resolution

16 February 2021

12:56 AM: India wins against England

10:56 AM: Basant Panchami

09:24 AM: PM Modi wishes on Basant Panchami

09:17 AM: Dada Saheb Phalke

09:01 AM: E-Chhawani portal

08:59 AM: 809th Urs of Khwaja Moinuddin Chisti

08:23 AM: India-Russia Relations

08:05 AM: Letter of Exchange

15 February 2021

02:18 PM: foundation stone of Maharaja Suheldev

01:02 PM: Japan-Guwahati Clean water

11:53 AM: Republic Day Parade-2021

11:42 AM: Covid-19 recovery rate

10:59 AM: Nine Indian fishermen released

10:54 AM: Launch of Batangas State University

14 February 2021

9:21 AM: Share your ideas

9:11 AM: FASTag lane

9:01 AM: भारतीय रिजर्व बैंक समेत कई संस्‍थानों में निकले पद

भारतीय रिजर्व बैंक समेत कई संस्‍थानों में निकले पद

(367 words)

कई सरकारी संस्थानों ने विभिन्न पदों पर रिक्तियां निकाली हैं। पदों के लिए योग्यता, आवश्यकता के अनुसार निर्धारित की गई हैI रोजगार समाचार के 6-12 फरवरी के संकस्‍करण में रिक्‍त‍ियों की सूचना प्रकाशित की गई है।

प्रस्‍तुत है इन रिक्तियों के बारे में संक्षिप्‍त जानकारी-

• अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान, गोरखपुर

रिक्तियां: 27 प्रोफेसर, 19 अतिरिक्त प्रोफेसर, 29 एसोसिएट प्रोफेसर और 19 सहायक प्रोफेसर
अंतिम तिथि: रोजगार समाचार में रिक्ति के विज्ञापन से 30 दिन
वेबसाइट : www.aiimsgorakhpur.edu.in

• सीमेंट और भवन निर्माण सामग्री राष्ट्रीय परिषद

रिक्तियां: समूह प्रबंधक के एक पद, प्रशासन एचआर
समूह प्रबंधक वित्त और लेखा का एक पद
समूह प्रबंधक सामग्री प्रबंधन सेवाओं का एक पद
अंतिम तिथि: रोजगार समाचार में रिक्ति के विज्ञापन से 21 दिन
वेबसाइट : www.ncbindia.com

• वैज्ञानिक और औद्योगिक अनुसंधान परिषद (सीएसआईआर)

रिक्तियां: प्रतिष्ठित वैज्ञानिक, विशिष्ट वैज्ञानिक
अंतिम तिथि: 15 फरवरी 2021
वेबसाइट : www.csir.res.in

• मालवीय राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान, जयपुर

रिक्तियां: तकनीकी सहायक या पुस्तकालय सूचना सहायक
तकनीकी या कार्य सहायक
वरिष्ठ तकनीशियन या कार्य सहायक
अधीक्षक
कनिष्ठ सहायक
वरिष्ठ सहायक
ऑफिस अटेंडेंट या लैब अटेंडेंट
अंतिम तिथि: 5 मार्च 2021
वेबसाइट: www.mnit.ac.in

• सेलुलर और आणविक जीव विज्ञान केंद्र

रिक्तियां: ग्रेड II तकनीशियनों के 25 पद
अंतिम तिथि: 8 मार्च 2021
वेबसाइट: www.ccmb.res.in

• भारतीय रिजर्व बैंक

रिक्तियां:

पूर्वी क्षेत्र में जूनियर सिविल इंजीनियर के 5 पद
पश्चिम क्षेत्र में जूनियर सिविल इंजीनियर के 10 पद
उत्तर क्षेत्र में जूनियर सिविल इंजीनियर के 5 पद
साउथ जोन में जूनियर सिविल इंजीनियर के 3 पद
मध्य क्षेत्र में जूनियर सिविल इंजीनियर का 1 पद
ईस्ट जोन में जूनियर इलेक्ट्रिकल इंजीनियर के 7 पद
पश्चिम क्षेत्र में जूनियर इलेक्ट्रिकल इंजीनियर के 10 पद
उत्तर क्षेत्र में जूनियर इलेक्ट्रिकल इंजीनियर के 5 पद
साउथ जोन में जूनियर इलेक्ट्रिकल इंजीनियर के 4 पद
अंतिम तिथि: 15 फरवरी 2021
वेबसाइट: www.rbi.org.in

• भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, कानपुर

रिक्तियां: अनुसंधान प्रतिष्ठान अधिकारी ग्रेड I के 3 पद
अंतिम तिथि: 15 मार्च 2021
वेबसाइट: www.iitk.ac.in

• एयर इंडिया एक्सप्रेस लिमिटेड

रिक्तियां: कोच्चि में कार्गो, बिक्री और विपणन प्रबंधक का एक पद
डिप्टी मैनेजर, एयरपोर्ट सर्विसेज प्रोफाइल सिस्टम एडमिन डीसीएस ग्रेड एम 3 कोच्चि का एक पद
अंतिम तिथि: विज्ञापन से 15 दिन
वेबसाइट: www.airindiaexpress.in

13 February 2021

04:42 PM: India’s first-ever diesel tractor converted to CNG

04:35 PM: Covid-19 vaccination drive

03:16 PM: कश्मीर घाटी को रेलवे से जोड़ने का काम

01:36 PM: Rohit Sharma hits century

12:27 PM: Chief Justice of Manipur High Court

12:012 PM: central assistance to 5 States/UTs

11:57 AM: तेजस स्लीपर टाइप ट्रेन

10:04 AM: Boost your immunity

9:16 AM: India Vs England - India wins toss

12 February 2021

4:25 PM: Sensex closes

3:33 PM: No New Covid-19 cases

3:00 PM: electronics and IT industry

The electronics and IT industry becomes a high employer in the country with sector friendly policies

(326 words)

The government is taking a slew of measures to promote the Electronics and Information Technology (IT) industry in the country which employs over 43 lakh persons in the IT sector and about 30 lakh persons in Electronics hardware manufacturing.

“As per the National Association of Software and Services Companies (NASSCOM), the Information Technology (IT) industry employs over 43 lakh persons in the country. As per the Confederation of Indian Industry (CII), employment in the Electronics hardware manufacturing industry in the country is estimated to be about 30 lakh persons,” according to a statement by the Ministry of Electronics and Information Technology in reply to a question in Lok Sabha.

“As a result of various initiatives of the Government including the Phased Manufacturing Programme (PMP), India has become a promising center for mobile phones and their sub-assemblies and parts manufacturing in recent years. The production of mobile phones has gone up significantly from around 6 crore units valued at INR 19,000 crore in 2014-15 to around 33 crore units valued at INR 2,14,000 crore in 2019-20,” it said.

“As per Industry estimates, over 200 units are manufacturing mobile phones and their sub-assemblies / parts in the country, up from only 2 units manufacturing mobile phones in 2014. Most of the major brands (both foreign and Indian) either have already set up their own manufacturing facilities or are in the process of doing so or have sub-contracted manufacturing to Electronics Manufacturing Services (EMS) companies operating from the country,” it added.

“The promotion of electronics hardware manufacturing, including manufacturing of mobile phones and their sub-assemblies / parts, is one of the important pillars of both the “Make in India” and “Digital India” programs of the Government of India. The measures taken by the Government to promote electronics hardware manufacturing, including setting up of mobile phone manufacturing factories in the country,” it added further.

2:12 PM: Increase in Mobile Phone production

1:20 PM: Uttarakhand rescue operation

10:07 AM: Surgery after Covid-19

9:45 AM: Sensex rise

9:15 AM: India fastest country in the World of vaccinating

8:45 AM: India, Russia air bubble

8:33 AM: Vaccination drive

11 February 2021

6:01 PM: Electric Vehicles

Department of Heavy Industry has sanctioned 2,877 Electric Vehicles (EVs) Charging Stations amounting approximately to Rs 500 Crore across 25 States/UTs

Read Full Article- t.me/pbns_india/7619

5:52 PM: वंदे भारत एक्सप्रेस

5:51 PM: Vande Bharatam

5:04 PM: Aadi Mahotsav

4:49 PM: ‘IndiaToyFair -2021’

Toy Fair will be held from 27th February to 2nd March in a virtual mode.

4:43 PM: IT minister Ravi Shankar Prasad warned U.S. social media firms

Speaking in Parliament on Thursday, IT minister called out Twitter, Facebook, LinkedIn and WhatsApp by name and said they were welcome to operate in India, but only if they play by India’s rules.

3:55 PM: फ़िलहाल रेस्क्यू बंद

3:22 PM: Vaccination drive

3:22 PM: Vaccination drive

12:00 PM: Vaccine

11:20 AM: Rajnath Singh address on China's disengagement

10:18 AM: Hima Das

9:50 AM: Covid-19 Vaccine Drive

9:03 AM: मौनी अमावस्या

10 February 2021

8:33 PM: टीकाकरण

7:21 PM: शीशे की बोतलों में सुंदर कलाकृतियां

शीशे की बोतलों में सुंदर कलाकृतियां बनाने में माहिर हैं हिमाचल के करतार सिंह

(462 words)

निर्जीव वस्तुओं में अपनी कलाकारी के माध्यम से जान डालने का हुनर किसी-किसी में ही होता है। बंद बोतल में कलाकृतियां बनाना कोई आसान काम नहीं है लेकिन करतार सिंह ऐसा कई बार करके दिखा चुके हैं। हाल ही में गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्‍या पर कला के क्षेत्र में उनके उल्लेखनीय योगदान को देखते हुए केंद्र सरकार ने उन्हें पद्मश्री पुरस्कार देने का ऐलान किया है।

बांस की कलाकृतियां बनाकर उन्हें सजीव बना देते हैं करतार सिंह

हिमाचल प्रदेश में हमीरपुर जिले के करतार सिंह सोखले बांस की कलाकृतियां बनाकर उन्हें सजीव बना देते हैं। करतार सिंह सोखले बाल्य अवस्था से ही बांस की कलाकृतियां बनाने का काम कर रहे हैं और सरकारी नौकरी करने के बावजूद उन्होंने अपने इस शौक को और इस कला को जिंदा रखा है। उनके द्वारा बनाई गई कलाकृतियां असली मालूम पड़ती हैं और हर कोई इनकी और आकर्षित हो जाता है।

शीशे की बोतलों के अंदर कलाकृतियां

करतार सिंह सोखले बांस का इस्तेमाल कर भगवान शिव और पार्वती सहित भगवान श्री कृष्ण की भी कलाकृतियां बनाते हैं। इसके अलावा उन्होंने शीशे की बोतलों के अंदर हल और बेलन जैसी अनेक कलाकृतियां बनाई हैं जिन्हें देखकर अनेक लोग हैरान रह जाते हैं। पद्मश्री पुरस्कार का मिलना वो कला का सम्मान बताते हैं।

इन शब्दों में सरकार को कहा- शुक्रिया

करतार सिंह कहते हैं, “हिमाचल प्रदेश सरकार का मैं बहुत ही आभारी हूं। उन्होंने मुझे बहुत ज्यादा प्रोत्साहित किया। सरकार की मदद से ही मुझे आगे से आगे बढ़ने का मंच मिला। इसके साथ ही मैं केंद्र सरकार का भी आभारी हूं जिन्होंने मुझे पद्मश्री से नवाजा है।”

एक कलाकृति बनाने में कितनी मेहनत

करतार सिंह सोखले बताते हैं कि पहले बांस को सुखाकर रखा जाता है। फिर उसकी बारीक-बारीक तिलियां तैयार की जाती हैं। इसके बाद जिस रंग में उसे ढालने की जरूरत हो उसे वही रंग दिया जाता है। लेकिन आमतौर पर बांस के मूलरूप से ही कलाकृतियां तैयार की जाती हैं। इन तीलियों को जोड़ने के लिए फेविकॉल का सहारा लिया जाता है। खास बात यह है कि जब कोई विशिष्ट अतिथि हमीरपुर जिले में आते हैं तो जिला प्रशासन उन्हें करतार सोखले द्वारा बांस से बनाई गई कलाकृतियां स्मृति चिन्ह के रूप में भेंट करते हैं।

लोगों के लिए प्रेरणास्रोत बने करतार सिंह

राज्य स्तर पर भी करतार सिंह सोखले को अपनी इस अद्भुत कला के लिए अनेक पुरस्कारों से नवाजा जा चुका है। पद्मश्री पुरस्कार के लिए चयन किए जाने पर करतार सिंह सोखले ने केंद्र और प्रदेश सरकार का आभार जताया है। उनका कहना है कि सरकार ने कला को सम्मान दिया है। करतार सिंह की यह उपलब्धि अन्य लोगों को प्रेरणा तो देती ही है प्रदेश को भी गौरवान्वित होने का मौका देती है।

12:15 PM: India emerging leader: US State Department Spokesperson

11:50 AM: Vaccine and antibodies

11:12 AM: Skill Academy

10:44 AM: COVID-19 Recovery rate

10:00 AM: Sensex/Nifty Up

5:58 PM: Pradhan Mantri Kaushal Vikas Yojana

5:07 PM: vaccine

4:22 PM: India, Afghanistan sign MoU

3:26 PM: Public healthcare

2:28 PM : Vaccines to Afghanistan

1:34 PM: Uttarakhand relief work continues

12:50 PM: Covid-19 vaccination drive

11:06 AM: 12 persons rescued

10:44 AM: Sensex up

10:44 AM: पीएम मोदी ने बाइडन से की फोन पर बात

पीएम मोदी ने बाइडन से की फोन पर बात, क्षेत्रीय मुद्दों, जलवायु परिवर्तन पर हुई चर्चा

(347 words)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को अमेरिका के नए राष्ट्रपति जो बाइडन से टेलीफोन पर पहली बार बात की और उन्हें भारत आने के लिए आमंत्रित किया। इस बातचीत में प्रधानमंत्री ने राष्ट्रपति बाइडन को चुनाव में जीत के लिए बधाई दी और भारत-अमेरिका रणनीतिक साझेदारी को आगे बढ़ाने के लिए साथ मिलकर काम करने के लिए तत्पर रहने को कहा। दोनों नेताओं ने क्षेत्रीय विकास और व्यापक भू-राजनीतिक संदर्भ पर चर्चा की।

दोनों नेताओं ने क्षेत्रीय मुद्दों और द्विपक्षीय मुद्दों पर की चर्चा

पीएम मोदी ने ट्वीट कर कहा कि आज मैंने अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन से टेलीफोन पर बात की और उन्हें चुनावों में मिली सफलता के लिए शुभकामनाएं दीं। पीएम ने कहा कि भारत-अमेरिकी साझेदारी लोकतांत्रिक मूल्यों और साझा रणनीतिक हितों के लिए प्रतिबद्धता से जुड़ी हुई है। उन्होंने नियम-आधारित अंतरराष्ट्रीय व्यवस्था और मुक्त, खुला और समावेशी भारत-प्रशांत क्षेत्र की शांति और सुरक्षा के लिए रणनीतिक साझेदारी को मजबूत करने पर बल दिया। साथ ही समान विचारधारा वाले देशों के साथ काम करने के महत्व को दोहराया।

जलवायु परिवर्तन के खिलाफ सहयोग को आगे बढ़ाने पर हुए सहमत

पीएम मोदी और राष्ट्रपति बाइडन ने वैश्विक जलवायु परिवर्तन की चुनौती पर अपने सहयोग को और आगे बढ़ाने पर सहमति जताई है। प्रधानमंत्री ने पेरिस समझौते के लिए पुन: प्रतिबद्ध होने के राष्ट्रपति बाइडन के निर्णय का स्वागत किया। साथ ही भारत ने अक्षय ऊर्जा के क्षेत्र में अपने लिए निर्धारित महत्वाकांक्षी लक्ष्यों को उजागर किया। प्रधानमंत्री ने इस वर्ष अप्रैल में जलवायु नेतृत्व शिखर सम्मेलन आयोजित करने के लिए राष्ट्रपति बाइडन की पहल का स्वागत किया और उसी में भाग लेने के लिए उत्सुक दिखे।

गौरतलब हो कि यह बातचीत ऐसे समय में हुई जब भारत और अमेरिका की सेनाएं राजस्थान में युद्धाभ्यास कर रही हैं। ऐसे में जब बाइडेन प्रशासन स्पष्ट तौर पर कह चुका है कि चीन को लेकर ट्रंप के कार्यकाल की नीतियों में बदलाव नहीं आएगा। माना जा रहा है कि बाइडेन के कार्यकाल में अमेरिका और भारत के संबंध और मजबूत होंगे।

(इनपुट-हिन्दुस्थान समाचार)

9:37 AM: COVID-19 Testing Update

9:15 AM: Indian friends and partners

9:11 AM: Warm conversation

9:00 AM: उत्तराखंड आपदा

इसरो वैज्ञानिक उत्तराखंड आपदा के कारणों की करेंगे खोज

(679 words)

उत्तराखंड के चमोली जिले में 7 फरवरी को ग्लेशियर टूटने के बाद हुई तबाही के मलबे में दबे 19 लोगों के शव अब तक बरामद किए गए हैं। एक टनल में फंसे 15 लोगों को सुरक्षित निकाल लिया है। हादसे में अभी तक लगभग 202 लोगों के लापता होने की सूचना है। सोमवार को प्रभावित इलाकों में राशन तथा अन्य सामग्री का वितरण हेलिकॉप्टर से करवाया गया है। मुख्यमंत्री ने इस घटना के कारणों का पता लगाने के लिए मुख्य सचिव को निर्देश दिये हैं। इसरो के वैज्ञानिकों एवं विशेषज्ञों की मदद से इस घटना के कारणों का पता लगाया जायेगा ताकि भविष्य में कुछ एहतियात बरती जा सके। इससे पहले डीआरडीओ और और एसएएसई की टीम उत्तराखंड पहुंच चुकी है और यह टीम स्थल के आसपास के ग्लेशियरों में स्थिति का आकलन करेगी ।

राहत बचाव कार्य पर सीएम की नजर

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने कहा कि तपोवन गांव के पास विष्णु गंगा प्रोजक्ट में काफी श्रमिक कार्य कर रहे थे। अभी तक 19 शव बरामद किये जा चुके हैं और लापता लोगों की तलाश की जा रही है। मुख्यमंत्री ने कहा कि जोशीमठ के रेणी क्षेत्र से ग्लेशियर टूटने से उत्पन्न आपदा के कारण डीजीपी कल से ही इस क्षेत्र में कैम्प किये हुए हैं। कमिश्नर गढ़वाल और डीआईजी गढ़वाल को भी आज से क्षेत्र में कैम्प करने के निर्देश दिये गये हैं। जिला प्रशासन की पूरी टीम कल से ही क्षेत्र में राहत एवं बचाव कार्यों में लगी है। अन्य जिलों से भी अधिकारी मौके पर भेजे गये हैं, ताकि बरामद शवों का पंचनामा एवं पोस्टमार्टम जल्द हो सके। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि इस घटना के कारणों का पता लगाने के लिए मुख्य सचिव को निर्देश दिये गये हैं। इसरो के वैज्ञानिकों एवं विशेषज्ञों की मदद से इस घटना के कारणों का पता लगाया जायेगा ताकि भविष्य में कुछ एहतियात बरती जा सके।

एसडीआरएफ, पुलिस, आईटीबीपी, सेना और एनडीआरएफ रविवार से एक्टिव

उन्होंने बताया कि जिला प्रशासन, एसडीआरएफ, पुलिस, आईटीबीपी, सेना और एनडीआरएफ की टीमें कल से राहत एवं बचाव कार्यों में लगी हैं। 35 लोगों के एक सुरंग में फंसे होने की संभावना है, जिन्हें सुरक्षित बाहर निकालने के लिए प्रयास किये जा रहे हैं। कल से ही इन लोगों को निकालने के लिए रेस्क्यू अभियान जारी है। मौके पर पर्याप्त मानव संसाधन है और एनडीआरएफ की अन्य टीमें भी तैयार हैं।

टनल में 80 मीटर तक मलबा हटाया गया

उत्तराखंड के डीजीपी अशोक कुमार ने बताया कि टनल में 80 मीटर तक मलबा हटाया जा चुका है। अब तक कुल 15 व्यक्तियों को रेस्क्यू किया गया है और 19 शव अलग-अलग स्थानों से बरामद किए गए हैं। उन्होंने बताया कि इस हादसे में अब तक 202 लोग लापता हैं जिनमें रेणी गांव के 05, तपोवन ऋत्विक कंपनी के 121 श्रमिक, करछो और रिंगी गांव के 02-02, ऋषिगंगा कंपनी के 46, ओम मैटल कंपनी के 21, एचसीसी के 03, तपोवन गांव के 02 लोग लापता हैं। इनमें तपोवन टनल में 25-35 लोग अभी भी फंसे हैं जिन्हें सुरक्षित निकालने के लिए रेस्क्यू ऑपरेशन जारी है।

1000 राशन और आवश्यक सामग्री के पैकेट तैयार

खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति विभाग के मुताबिक चमोली में आई आपदा से प्रभावित परिवारों को तत्काल राहत देने के लिए 1000 राशन और आवश्यक सामग्री के पैकेट तैयार कर लिए गए हैं। आज तपोवन के हेलीपैड से हेलिकॉप्टर के माध्यम से प्रभावित इलाकों में राशन तथा अन्य सामग्री का वितरण करवाना शुरू कर दिया गया है। इस सामग्री किट में 5 किलो आटा, 05 किलो चावल, एक किलो दाल, एक किलो चीनी, 200 ग्राम चाय पत्ती, एक किलो नमक, एक पैकेट मोमबत्ती, एक लीटर खाद्य तेल, मसाले, नहाने एवं कपड़े धोने के साबुन, माचिस और मिल्क पाउडर शामिल है।

इस दौरान गढ़वाल सांसद एवं प्रभारी मंत्री प्रभावित परिवारों के परिजनों से मिले और उन्हें हर संभव मदद पहुंचाने का भरोसा दिलाया। प्रभारी मंत्री ने कहा कि यहां पर जिला प्रशासन, पुलिस, आईटीबीपी, आर्मी, एनडीआरएफ, एसडीआरएफ, बीआरओ सभी मिलकर युद्ध स्तर पर रात-दिन रेस्क्यू में जुटे हैं और जिन्दगियों को बचाने के लिए हर संभव प्रयास किए जा रहे हैं।

(हिन्दुस्थान समाचार)

8 February 2021

9:11 AM: 16th edition of Indo-US joint military exercise

9:00 AM: 12 men rescued safely

8:55 AM: Uttarakhand Glacier burst

8:45 AM: E-vehicles

E-vehicles drive India to the road towards energy efficiency

(655 words)

The year 2017 can be marked as the turning point in India’s clean energy policy as India seized the moment in exceeding common perceptions to completely transform the Indian automobile sector. The Union Road Transport Minister Nitin Gadkari announced his ambitious plan to make the automobile sector of India 100% fuel-less and green energy driven by 2030.

Energy Transition: towards a green economy

Amidst increasing demand for renewable energy in the world, India finds itself in the centre stage with immense potential to provide a viable market. India is also the world’s third-largest energy consumer after the US and China, which makes the transition to green energy excessively imminent.

India plans to achieve 175 gigawatts (GW) of renewable energy capacity by 2022 as part of its commitments under the global climate change accord, of which 100 GW is to come from solar energy.

EV batteries to offer storage solution to India’s clean energy push:

The solar power generated during the day needs to be stored in batteries. This storage capability of EV batteries could help with grid balancing, complementing the push for solar power.

With the government’s move to reduce GST on E- vehicles from 12% to 5% and the GST on charging stations for electric vehicles reduced from 18% to 5%, the transition is becoming economically viable.

Green energy: the new oil

India’s policy makers have taken much interest in EVs, impressed by their 20 moving parts as against 2,000 in traditional petrol or diesel vehicles. The draft national energy policy states: “EVs are an area of huge interest to India as it holds the potential of reducing the demand for liquid fuel.” “The advent of EVs will help curb a rise in share of oil and environment friendly gas would substitute oil in many uses.”

Government’s incentives to EV sector- transforming India manifolds:
(as per the statement laid by Prakash Javadekar, Union Minister for environment, forest & climate change at the LS session held on 2nd Feb 2021)

FAME (Faster Adoption and Manufacturing of Electric Vehicles): For the promotion of electric mobility in the country, the Government launched Phase-I of the FAME India Scheme under the National Electric Mobility Mission Plan (NEMMP) from 1st April 2015, initially for a period of 2 years, was subsequently been extended till 31st March 2019.

The Phase-II of FAME India Schem launched for a period of 3 years from 1st April, 2019 focuses on supporting electrification of public & shared transportation and aims to support, through subsidies.

Energy Efficiency Services Ltd (EESL): The State-run firm has been tasked with triggering early adoption of electric vehicles in the country. The firm which made a name for itself by reducing the price of LED lights for home lighting by 86%, floated a tender for procuring 10,000 electric cars, the largest such procurement in the world. EESL’s business model is to make these vehicles available on lease to the government and its agencies for around Rs45, 000 per month, which is Rs 5, 000 less than what is currently paid for petrol and diesel cars.

GST Reduction: GST reduced on E-vehicles from 12% to 5% and on charging stations from 18% to 5%.

Income Tax Deduction: Income tax deduction of Rs 1.5 lakh provided by the government on the interest paid on loans taken to purchase electric vehicles.

The Indian Space Research Organisation (ISRO) has commercialized indigenously developed lithium ion battery technology and has selected 14 companies for transfer of technology.

The NITI Aayog to provide a Model Concession Agreement (MCA) document for introducing Electric-Bus Fleet in Cities for Public Transportation on Public-Private Partnership (PPP) mode on operational expenditure (per km basis) model rather than paying upfront capital cost.

7 February 2021

9:21 AM: चेचक से कोविड-19 तक

चेचक से कोविड-19 तक : तब मांगते थे टीका आज दुनिया को भेज रहे वैक्सीन की लाखों डोज

(896 words)

कोविड-19 की वैश्विक महामारी से निपटने में भारत ने अद्भुत कुशलता का परिचय दिया है। देश के नागरिकों की जान बचाने के लिए राजनीतिक इच्छाशक्ति और वैज्ञानिकों की मेहनत का ही परिणाम रहा कि इतने कम समय में भारत में कोरोना से बचाव के लिए टीका उपलब्ध हो गया। देश में अब तक तो 50 लाख से अधिक लोगों का टीकाकरण भी हो चुका है। और तो और वैक्सीन की लाखों डोज तमाम मुल्‍कों में भेजी जा चुकी हैं। वैज्ञानिकों की इस उपलब्‍धि‍ पर बात करने से पहले आपको थोड़ा पीछे ले चलते हैं।

महामारियों का इतिहास उलटने पर पता लगता है कि भारत ने बहुत सी महामारियां झेली हैं। चेचक एक ऐसी ही महामारी थी, जिससे उस दौर में हजारों लोग असमय मृत्यु को प्राप्त हो गए। इसका कारण यह था कि तब भारत उन महामारियों से बचाव के लिए शीघ्र टीके तैयार करने में असमर्थ था। चेचक से बचाव के लिए भी टीका बाहर से आया था।

दुनिया को झकझोरा था चेचक ने

बींसवी सदी में पूरी दुनिया ने चेचक का भयानक प्रकोप झेला था। चेचक की बीमारी के लिए वैरिओला माइनर नाम का वायरस उत्तरदायी होता है। मानवता के इतिहास में इसे सबसे भयंकर विषाणुओं में से एक माना जाता है। इससे संक्रमित लोगों के शरीर पर छोटी छोटी फुंसियां हो जाती थीं, जिनमें मवाद भर जाता था। जब ये बीमारी अपने चरम थी, तो हर दस संक्रमित लोगों में से एक की मृत्यु हो जाती थी। विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार, चेचक की बीमारी करीब 3000 सालों तक इंसानों के लिए मुसीबत बनी रही और इसकी वजह से 20वीं सदी में करीब 30 करोड़ लोगों की मौत हुई।

भारत में ऐसी थी स्थिति

चेचक के रोग से भारत भी बुरी तरह प्रभावित था। सन् 1951 में इस रोग से 25 लाख लोग संक्रमित हुए थे और 64 हजार से भी अधिक लोगों की मृत्यु हुई थी। वर्ष 1961 – 1961 में राष्ट्रीय चेचक उन्मूलन कार्यक्रम शुरू किया था, बावजूद इसके 1967 में चेचक के 80,000 मामले सामने आ गए।

चेचक महामारी से बचाव के लिए वर्ष 1796 में ब्रिटिश डॉक्टर एडवर्ड जेनर ने वैक्सीन की खोज की थी और यह वैक्सीन दुनिया की पहली वैक्सीन भी थी। एडवर्ड जेनर को आधुनिक टीकाकरण का जनक भी कहा जाता है।भारत में चेचक की वैक्सीन 1802 में आ गई थी, पर बेहद सीमित इलाके में वैक्सीन की पहुंच थी। चेचक का पहला टीका 1802 में 3 साल की बच्ची को लगा था। भारत में यह टीका ब्रिटेन से आया था, बावजूद इसके लोगों की जान बचाई नहीं जा सकी। ब्रिटेन से न तो पर्याप्त मात्रा में वैक्सीन आई थी और न ही उस समय भारत इतना सक्षम था कि वैक्सीन का निर्माण कर सके।

महामारी से निपटने के लिए नए भारत ने खुद बनाया टीका

टीके को लेकर चेचक के समय भारत की जो अवस्था थी, कोरोना महामारी के समय स्थिति बिल्कुल उसके विपरीत है। उस दौर में भारत टीका मांगने वालों की कतार में था, आज देश के वैज्ञानिकों और चिकित्सकों ने अनुसंधान के बाद बड़ी मेहनत से देश में ही टीका तैयार किया, जिसे भारत दूसरे देशों को भी भेज रहा है। भारत में दुनिया का सबसे बड़ा टीकाकरण अभियान चल रहा है।

इन बिंदुओं के माध्यम से जानते हैं कि स्थिति कैसे बदली –

• चेचक महामारी के दौरान टीका भारत में नहीं बना था, बल्कि ब्रिटेन से आयात किया गया था। जबकि, कोविड-19 महामारी के दौरान स्वदेश निर्मित टीका ही नागरिकों को लगाया जा रहा है।

• सीरम इंस्टीट्यूट द्वारा विकसित कोविशील्ड और भारत बायोटेक द्वारा विकसित कोवैक्सीन दोनों टीके कोरोना से लड़ने में कारगर हैं।

• 19वीं सदी के शुरुआती दशक से सदी के उत्तरार्ध तक आते-आते भी भारत चेचक से लड़ने के लिए वैक्सीन विकसित नहीं कर पाया था।

• अभी वही भारत, देश में निर्मित कोवैक्सिन और कोविशील्ड वैक्सीन को विश्व के अन्य देशों में भेज रहा है। इन देशों में, ब्राजील, नेपाल, बांग्लादेश, भूटान, दक्षिण अफ्रीका, श्रीलंका, सेशेल्स, अल्जीरिया, ओमान, संयुक्त अरब अमीरात, कुवैत मिस्र और म्यांमार शामिल हैं।

• इसके अतिरिक्त देश में वर्तमान में सात कोविड वैक्‍सीन पर काम चल रहा है। इनमें से तीन टीके क्लिनिकल ट्रायल के तीसरे चरण में हैं जबकि दो पहले और दूसरे चरण में हैं।

• उस समय चेचक उन्मूलन कार्यक्रम शुरू करने के बावजूद लोगों में तरह- तरह की भ्रांतियां थी। लोग टीका लगाने के लिए आगे नहीं आ रहे थे।

• अब देश में सरकार ने विभिन्न प्रयासों के माध्यम से लोगों को टीकाकरण के लिए जागरूक कर रहे हैं। शीर्षस्थ अधिकारी स्वयं टीका लगवा रहे हैं। जिससे लोगों में विश्वास उत्पन्न हुआ है।

• इसी विश्वास का परिणाम है कि अब तक देशभर में अब तक 50 लाख से भी अधिक स्वास्थ्य कर्मियों को टीका लगाया जा चुका है। कोविशील्ड और कोवैक्सिन, दोनों टीकों की 1.65 करोड़ खुराकों का आवंटन सभी राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों को किया गया है।

• चेचक का टीका सशुल्क लगाया जाता था, मतलब उस टीके को लगाने के लिए पैसे देने पड़ते थे। जबकि यहां स्वास्थ्यकर्मियों के कोरोना टीकाकरण का खर्च सरकार वहन कर रही है।

• चेचक जैसी महामारी से जूझने में भारत को तीन दशक से लम्बा समय लगा। जबकि कोविड टीकाकरण अभियान इस बात का प्रमाण है कि भारत ने टीका बनाकर न केवल अपने नागरिकों के प्राणों की रक्षा की बल्कि समूची मानवजाति की उत्कृष्ट सहायता की है।

6 February 2021

5:21 PM: Winter Sports & Youth festival 2021

5:03 PM: IRCTC launches its online bus booking services

4:38 PM: India's first women CoBRA Commandos

4:04 PM: Great achievement

3:30 PM: बच्चों के पेट में कीड़े होने के लक्षण और उपचार

बच्चों के पेट में कीड़े होने के लक्षण और उपचार

(292 words)

पेट में कीड़े का होना कृमि रोग कहलाता है, इसकी वजह से बच्चों का मानसिक और शारीरिक विकास रुक जाता है। बच्चे के विकास के लिए, उन्हें कुपोषण से दूर रखने और एनीमिया से बचाने के लिए उनका स्वस्थ रहना जरूरी है, लेकिन पेट में कीड़े होने से बच्चों में प्रायः इस तरह की समस्या देखने को मिलती है। क्या लक्षण हैं इस रोग के और कैसे बचा जा सकता है इस बारे में स्वास्थ्य विशेषज्ञ से खास बातचीत की।

बाल रोग विशेषज्ञ डॉ. अंकित गुप्ता बताते हैं कि जब किसी मनुष्य के पेट में कीड़े होते हैं वो रिप्रोडक्टिव साइकिल के द्वारा अंडे प्रोड्यूस करते हैं, ये अंडे उसके मल के द्वारा मिट्टी में मिल जाते हैं। जहां से ये सब्जियों के माध्यम से दूसरे तक पहुंच सकते हैं या दूषित पानी के जरिए। कई बार बच्चे हाथ मिट्टी में लगाकर मुंह में डालते रहते हैं, हाथ नहीं धोते हैं। इस वजह से भी उनके पेट में कीड़े पहुंच सकते हैं।

क्या हैं लक्षण?

>बच्चों का विकास रुक जाना

>मानसिक और शारीरिक विकास कम होना

>बच्चों में भूख न लगना

>बच्चा अगर खाता भी है तो उसके शरीर को न लगना

>बच्चे में खून की कमी

पेट में कीड़ों रोकने के उपाय

>बच्चों को समझाएं की जब भी भोजन करें हाथ जरूर साफ करें

>खाने से पहले और शौच के बाद हाथ साबुन से जरूर धोएं

>शौच कभी खुले में नहीं करना है

>दूषित पानी नहीं पीना है

10 फरवरी को देश भर में राष्ट्रीय कृमिहरण दिवस (नेशनल डीवर्मिंग डे) मनाया जाता है। इस दिन 1 से 19 वर्ष के बच्चों अल्बेंडाजोल नामक दवाई की डोज दी जाती है। इसका उद्देश्य बच्चों के शरीर के कृमि उत्पन्न होने को रोकना है।

3:00 PM: Six States/UTs account for 81.05% of the new deaths.

2:54 PM: Six States/UTs account for 81.05% of the new deaths.

2:23 PM: India is the fastest country to reach the 5 million mark

2:03 PM: India is the fastest country to reach the 5 million mark

12:59 PM: We don't need outsiders to resolve our issues

10:31 AM: Diamond Jubilee of the Gujarat High Court via VC

9:30 AM: COVID-19 Testing Update:

5 February 2021

4:39 PM: ISTRAC

4:22 PM: PSLV-C51

3:36 PM: President addressing at Valedictory Ceremony of Aero India Show 2021

2:45 PM: Aero India 202

1:12 PM: COVID-19

12:11 PM: RBI Governor PC

11:34 AM: Start-up Manthan

iDEX Open Challenge initiative creates opportunities for innovators to propose ways for harnessing their technological capabilities to strengthen our nation’s military capability.

Anyone with an idea that can be used in defence and aerospace can apply under this initiative.

Our commitment to ensure that technologies developed by the Start-up eco-system act as force multipliers to the Indian military’s operational and combat capabilities. This has been highlighted in the latest version of Defence Acquisition Procedure 2020.

I am very happy to announce, that 45 MSMEs who have participated in Aero India have already got orders worth Rs 203 Cr. This is very heartening news and I am sure it will grow further in the times to come.

10:00 AM: COVID-19 Testing Update

9:44 AM: Indian defence sector roaring under 'Make in India' initiative

Indian defence sector roaring under ‘Make in India’ initiative

(403 words)

In the last few years, India has successfully produced a variety of defence equipment including 155mm Artillery Gun system ‘Dhanush’, Light Combat Aircraft ‘Tejas’ and Surface to Air Missile system ‘Akash’ under ‘Make in India’ scheme said Union Minister of State for Defence Shripad Naik in a reply to a question in Lok Sabha.

“Many significant projects including 155mm Artillery Gun system ‘Dhanush’, Bridge Laying Tank, Thermal Imaging Sight Mark-II for T-72 tank, Light Combat Aircraft ‘Tejas’, Surface to Air Missile system ‘Akash’, Attack Submarine ‘INS Kalvari’, ‘INS Chennai’, Armoured Repair and Recovery Vehicle Arjun, Medium Bullet Proof vehicle among others have been produced in the country under ‘Make in India’ of the Government in the last few years,” he adds.

He points out “The ‘Make in India’ initiative in the defence sector is implemented through various policy initiatives which promote indigenous design, development and manufacture of defence items. These initiatives, inter-alia, include a priority to the procurement of capital items from domestic sources under Defence Acquisition Procedure (DAP) 2020.”

He notes “A notification of ‘Negative list’ of 101 items for which there would be an embargo on the import beyond the timeline indicated against them; simplification of Industrial licensing process; liberalization of FDI policy; simplification of Make Procedure; launch of Innovations for Defence Excellence (iDEX) scheme; and implementation of “Public Procurement (Preference to Make in India .”

He says “In the last three financial years i.e. from 2017-18 to 2019-2020, Government has accorded Acceptance of Necessity (AoN) to 123 Defence proposals, worth Rs. 169,750 Crore approximately, under the various categories of Capital Acquisition, which promotes domestic manufacturing as per the Defence Acquisition Procedure.”

He highlights “Some of the major items exported in the past few years are Fast Patrol Vessels, Coastal Surveillance System (CSS), Light Weight Torpedoes, Light Weight Torpedo Launcher and Parts, Do-228 Aircraft, Wheeled Infantry Carrier, Light Specialist Vehicle, Mine Protected Vehicle, Passive Night Sights, Battle Field Surveillance Radar Extended Range, Integrated Anti-Submarine Warfare, Advanced Weapons Simulator, Personal Protective items, 155mm Artillery Gun Ammunition, Small Arms and Ammunitions, Weapon locating Radars, Identification of Friend or Foe (IFF) – Interrogator among others.”

He further adds “A decision has been taken to set up a Defence Industrial Corridor in the State of Tamil Nadu with 5 nodes at Chennai, Coimbatore, Hosur, Salem and Tiruchirappalli to develop defense manufacturing ecosystem and promote indigenous manufacturing.”

26 January 2021

2:47 PM: Republic Day

01:40 PM: कोरोना की रफ्तार पड़ी धीमी

भारत में कोरोना की रफ्तार से राहत, 24 घंटे में 12 हजार 584 नए केस

देश में कोरोना के मरीजों की संख्या एक करोड़ चार लाख के पार पहुंच गई है। पिछले 24 घंटे में कोरोना के 12 हजार 584 नए मामले सामने आए हैं। इसके साथ ही कोरोना के मरीजों की संख्या बढ़कर 1,04,79,179 पर पहुंच गई है। पिछले 24 घंटे में 167 लोगों की मौत हो गई। इसके साथ ही इस बीमारी से मरने वालों की संख्या 1,51,327 तक पहुंच गई है।

मंगलवार सुबह केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक देश में 2,16,558 एक्टिव मरीज हैं। वहीं, राहत भरी खबर है कि कोरोना से अब तक 1,01,11,294 मरीज स्वस्थ हो चुके हैं। जबकि देश का रिकवरी रेट बढ़कर 96.48 प्रतिशत हो गया है।

देश में पिछले 24 घंटे में 8 लाख से अधिक टेस्ट
संक्रमण के प्रसार को रोकने के लिए जहां 16 जनवरी से वैक्सीनेशन शुरू होने जा रहा है वहीं टेस्टिंग की रफ्तार अभी भी जारी है। देश में पिछले 24 घंटे में 08 लाख से अधिक कोरोना के टेस्ट किए गए हैं। आईसीएमआर के मुताबिक 11 जनवरी को 08,97,056 टेस्ट किए गए। अबतक देश में कुल 18,26,52,887 टेस्ट किए जा चुके हैं।

विश्व में एक दिन में छह लाख से अधिक लोग संक्रमित
वहीं भारत को छोड़ कर वैश्विक स्तर पर कोरोना की स्थिति पर गौर करें तो महामारी का प्रकोप बढ़ता ही जा रहा है। एक दिन में विश्वभर में छह लाख से अधिक लोग कोरोना वायरस से संक्रमित हुए है। अमेरिका की जॉन हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी के विज्ञान एवं इंजीनियरिंग केन्द्र (सीएसएसई) की ओर से जारी आंकड़ों के मुताबिक विश्व के 191 देशों में कोरोना वायरस से अब तक नौ करोड़ आठ लाख 73 हजार 878 लोग संक्रमित हुए हैं, जबकि 19 लाख 44 हजार 561 मरीज अपनी जान गंवा चुके हैं।

01:05 PM: recovery rate improves

12:30 PM: COVID-19 Vaccine reaches Hyderabad

12:10 PM: वैक्सीन की पहली खेप पुणे से रवाना

कोविशील्ड वैक्सीन की पहली खेप देश के अलग-अलग हिस्सों के लिए रवाना

देशभर में शनिवार से कोरोना टीकाकरण की शुरुआत हो रही है। टीकाकरण के लिए पुणे स्थिति सीरम इंस्टीट्यूट से कोविशील्ड वैक्सीन से लदे तीन ट्रक की पहली खेप आज पुणे एयरपोर्ट के लिए रवाना हुई। ये सभी वैक्सीन देश के अलग-अलग हिस्सों में पहुंचाई जानी है।

पुणे जोन-5 की डीसीपी नम्रता पाटिल ने जानकारी देते हुए बताया कि वैक्सीन से लदे ट्रक को पहुंचाने के लिए सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए थे। इससे पहले कंपनी ने भारतीय परंपरा से पूजा की और उसके बाद ट्रक को रवाना किया।

वहीं जानकारी के मुताबिक पुणे एयरपोर्ट से आज कोविशील्ड वैक्सीन को लेकर 8 फ्लाइट देश के 13 अलग-अलग स्थानों के लिए रवाना होंगी। इसमें पहली फ्लाइट दिल्ली हवाई अड्डे के लिए रवाना हुई। हालांकि मुंबई के लिए वैक्सीन सड़क मार्ग से भेजी जाएगी।

बता दें कि पूरे देश में चार जगहों पर सेंट्रल स्टोरेज बनाए गए हैं जिनमें कोलकाता, मुंबई, चेन्नई और करनाल में सेंट्रल स्टोरेज बने हैं। पूरे देश के में सबसे पहले स्वास्थ्य कर्मियों को टीका लगाया जाना है। केंद्र सरकार की ओर से तैयार “वैक्सीन डाटाबेस रिकॉर्ड” के लिए मोबाइल एप्लीकेशन “को-विन” पर स्वास्थ्य कर्मियों की सूची अपलोड कर दी गई है। प्रत्येक स्वास्थ्य कर्मी को टीके की दो डोज दी जाएगी।

गौरतलब हो कि करीब एक अरब 30 करोड़ की विशाल आबादी वाले देश में समुचित तरीके से टीकाकरण अभियान पूरा करना देश के सामने बड़ी चुनौती है। ऐसे में केंद्र सरकार के साथ राज्यों का बेहतर तालमेल ही इस लक्ष्य को पूरा करने में मददगार साबित होगा।

11:30 AM: COVID-19 Updates

11:15 AM: Three Golden Rules

11:00 AM: 96.49% स्वस्थ

10:30 AM: Testing Update

10:00 AM: 'Covishield' on the go

11 January 2021

06:35 PM: Preparations Done for COVID-19 vaccines: PM

06:05 PM: PM on COVID-19 vaccine

05:45 PM: 30 करोड़ लोगो को मिलेगा वैक्सीन

05:35 PM: COVID vaccine